सभी संकट दूर करेंगे 
ये महामृत्युंजय मंत्र

पावन 

5 महामृत्युंजय मंत्र
 इन हिंदी 

पावन 

1.पहला मंत्र 

पावन 

'हौं' एक अक्षर का महामृत्युंजय मंत्र है जिसे एकाक्षरी महामृत्युंजय मंत्र कहते हैं. नियमित रूप से इस मंत्र का जाप करने से स्वास्थ्य अच्छा रहता है.

2.दूसरा  मंत्र 

पावन 

'ऊं जूं स:' मंत्र को तीन अक्षर का महामृत्युंजय मंत्र यानी त्रयक्षरी महामृत्युंजय मंत्र कहते हैं.रात को सोने से पहले इस मंत्र का 27 बार जाप करने से कोई भी बीमारी परेशान नहीं करेगी.

3.तीसरा मंत्र 

पावन 

'ऊं हौं जूं स:' मंत्र चार अक्षरों का महामृत्युंजय मंत्र यानी चतुराक्षरी महामृत्युंजय मंत्र होता है.इसका नियमित रूप से जाप करने से शल्य चिकित्सा, दुर्घटना का खतरा कम हो जाता है.

4.चौथा मंत्र 

पावन 

 'ऊं जूं स: माम पालय पालय' दस अक्षरों वाला महामृत्युंजय मंत्र यानी दशाक्षरी महामृत्युंजय मंत्र है. तांबे के लोटे में जल भरकर इसके सामने इस मंत्र का जाप करें.

5.पांचवा मंत्र 

पावन 

ॐ हौं जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् ॐ स्वः भुवः भूः ॐ सः जूं हौं ॐ। इससे जीवनदान मिल सकता है। 

पावन 

 पूरी जानकारी के
 लिए निचे दिए लिंक
 पे क्लिक कीजिये