Paavan Logo
Rasayan Vati Benefits in Hindi
Share on whatsapp
Share on facebook
Share on telegram
Share on linkedin
Share on twitter

जानें रसायन वटी के फायदे, उपयोग और नुकसान

दोस्तों अगर आपको आयुर्वेद के बारे में थोड़ी भी जानकारी है तो आप रसायन वटी से अवश्य ही परिचित होंगे। इसका आयुर्वेदिक औषधि विज्ञान में एक महत्वपूर्ण स्थान है। इसके सेवन के मानव शरीर से अत्यधिक फायदे जुड़े हैं । 

आयुर्वेद के जानकार तो इससे भली भांति परिचित होंगे, लेकिन अगर आप इससे परिचित नहीं भी हैं, तो चिंता मत कीजिए। क्योंकि यहाँ हम आपको रसायन वटी के बारे में पूरी जानकारी देंगे। इस लेख के माध्यम से हम जान पाएंगे की रसायन वटी क्या है, रसायन वटी के फायदे (rasayan vati benefits in hindi), उपयोग, नुकसान, आदि। आइए शुरू करते हैं “रसायन वटी के फायदे (rasayan vati benefits in hindi)” पर हमारा यह लेख । 

रसायन वटी क्या है (Rasayan Vati Kya Hai)

Rasayan Vati Benefits in Hindi - Rasayan Vati Kya Hai

रसायन वटी एक चमत्कारिक रूप से फायदा करने वाली दिव्य आयुर्वेदिक औषधि है। इसके सेवन से कई तरह के लाभ होते हैं। विशेषकर यह पुरुषों के लिए फायदेमंद और स्वास्थ्यवर्धक साबित होती है। यह पुरुषों की शारीरिक, मानसिक, और यौन सम्बन्धी समस्याओं को दूर करके उन्हें शक्ति प्रदान करती है। इससे शरीर की इम्युनिटी सिस्टम भी मज़बूत होती है। रसायन वटी के फायदे (rasayan vati benefits in hindi) की लिस्ट बहुत लंबी है । इस लेख में हम इससे होने वाले एक-एक लाभ को समझेंगे। 

रसायन वटी को अन्य नामों से भी जाना जाता है जैसे राजवैद्य रसायन वटी, दिव्य शिलाजीत रसायन वटी, आदि। इस दवा का निर्माण विशेष तरह की जड़ी-बूटियों के संयोजन से किया जाता है। जिन जड़ी-बूटियों या घटकों का उपयोग इस वटी को बनाने के लिए किया जाता है, वो कुछ इस प्रकार हैं:

घटक  वैज्ञानिक नाम  मात्रा 
स्वर्ण वांगा (Swarna Vanga)
कपिकाचु (Kapikachhu) म्यूक्यूना पुरिएंस (Mucuna Puriens) 90 ग्राम 
मुसाली (Musali) क्लोरोफाइटम बोरीविलेनियम (Chlorophytum Borivilianum)  25 ग्राम 
गोक्षुरा (Gokshura)  ट्रिब्यूलस टेरेस्ट्रिस (Tribulus Terrestris) 25 ग्राम 
यशदा भस्म (Yashada Bhasma) ज़िंक कैलक्स (Zinc Calx) 40 ग्राम 
अनंतमूल (Anantmool) हेमिडेस्मस इंडिकस (Hemidesmus Indicus) 10 ग्राम 
अम्लाकिक (Amlakik) एम्बलिका ऑफिसिनैलिस (Emblica Officinalis) 10 ग्राम 
पिप्पलि (Pippali) पीपर लोंगम (Piper Longum) 10 ग्राम 
मारीच (Marich) पीपर निग्रम (Piper Nigrum) 10 ग्राम 
सुनती (Shunti) ज़िन्गिबेर ऑफिसिनले (Zingiber Officinale)  10 ग्राम 
जावित्री (Javitri) मिरिस्टिका फ्रेग्रेंस (Myristica Fragrans) 10 ग्राम 
क्षरा (Kshara) 20 ग्राम 
जातीफल (Jatifal) मिरिस्टिका फ्रेग्रेंस (Myristica Fragrans) 20 ग्राम 
शतावरी (Shatavari) एस्परैगस रेसमोसुस (Asparagus Racemosus)  20 ग्राम 
ब्राह्मी (Brahmi) बाकोपा मोनिएरी (Bacopa Monnieri)  10 ग्राम 
दालचीनी (Dalchini) सिन्नामोमम ज़ेलेनिकम (Cinnamomum Zeylanicum)  20 ग्राम 
मंजिष्ठा (Manjistha) रूबिया कॉर्डिफोलिया (Rubia Cordifolia) 10 ग्राम 
प्रवाल पिष्टी (Praval Pishti) 10 ग्राम 
मुक्त पिष्टी (Mukta Pishti) 10 ग्राम 
स्वर्ण मक्षिका भस्म (Swarna Makshika Bhasma) 10 ग्राम 
अभ्रक भस्म (Abhrak Bhasma) माइका कैलक्स (Mica Calx) 10 ग्राम 
शिलाजीत (Shilajit) ऐसफेलटम (Asphaltum) 50 ग्राम 
अश्वगंधा (Ashwagandha) विथानिया सोम्निफ़ेरा (Withania Somnifera) 50 ग्राम 
लौह भस्म (Loha Bhasma) आयरन कैलक्स (Iron Calx) 50 ग्राम 

तो ये थी रसायन वटी को बनाने में उपयोग में आने वाले सम्पूर्ण घटकों के बारे में जानकारी। आइए अब आगे रसायन वटी के फायदे (rasayan vati benefits in hindi) लेख में आगे पढ़ते हैं और समझते हैं रसायन वटी के फायदे (rasayan vati benefits in hindi), इसके उपयोग, और नुकसान । 

 

क्या आप हमेशा खुश रहना चाहते हैं? जानें 9 प्रभावी खुश रहने के उपाय

आयुर्वेद का रहस्य छुपा है इन पुस्तकों में

 

रसायन वटी का उपयोग (Rasayan Vati Uses in Hindi)

Rasayan Vati Benefits in Hindi - Rasayan Vati Uses in Hindi

रसायन वटी का उपयोग डॉक्टर से परामर्श लेने के बाद उनकी सलाह पर ही करना चाहिए। परंतु अगर आप इस वटी का उपयोग करते हैं तो कुछ सामान्य बातें हैं जिनका आपको विशेष रूप से ध्यान रखना चाहिए। ये बातें इस प्रकार से हैं:

1) इस दवा को कभी भी खाली पेट ना लें।

2) सामान्यतः इसकी 1 से 2 गोली दिन में 2 बार भोजन के बाद ले सकते हैं।

3) इसे गुनगुने पानी या फिर गर्म दूध के साथ लिया जा सकता है। 

4) इस आयुर्वेदिक वटी को सूखी एवं ठंडी जगह पर सूर्य की किरणों से दूर स्टोर करके रखना उचित होता है।

5) इसके उपयोग से पहले हमेशा लेबल को अच्छी तरह से पढ़ना उचित होता है।

6) इस दवा को हमेशा बच्चों की पहुँच से दूर रखना चाहिए।

तो ये थी रसायन वटी की उपयोगिता से संबंधित जानकारी । आइए अब आगे जानते हैं रसायन वटी के फायदे (rasayan vati benefits in hindi) विस्तार में । 

रसायन वटी के फायदे (Rasayan Vati Benefits in Hindi)

Rasayan Vati Benefits in Hindi

रसायन वटी के फायदे (rasayan vati benefits in hindi) हर किसी में अलग-अलग फायदे देखे जा सकते हैं। इसके सेवन के कुछ सामान्य फायदों में शामिल हैं:

1) रसायन वटी के फायदे (rasayan vati benefits in hindi) में शरीर की कोशिकाओं को मजबूत बनाना शामिल है। 

2) इसके लगातार सेवन से काम में मन ना लगना, चिड़चिड़ापन, और थकावट जैसी समस्याओं से मुक्ति मिलती है। 

3) रसायन वटी के फायदे (rasayan vati benefits in hindi) में स्वप्नदोष की समस्या को दूर किया जाना शामिल है।  

4) असमय बुढ़ापा आने पर भी रसायन वटी का प्रयोग लाभदायक साबित होता है। 

5) इस वटी का उपयोग आदमियों की शारीरिक दुर्बलता को दूर करने के लिए किया जाता है। 

6) अगर किसी व्यक्ति में खून की कमी के लक्षण दिखते हैं, तो उसे इस वटी का उपयोग करना चाहिए। 

7) कम भूख लगने की समस्या को भी इस वटी के उपयोग से दूर किया जा सकता है। इससे भूख बढ़ती है और पाचन तंत्र भी मजबूत होता है। 

8) शरीर की मांसपेशियों में दर्द होने पर भी रसायन वटी का उपयोग लाभकारी साबित होता है। 

9) एंग्जायटी से बचने के लिए भी इस वटी का उपयोग किया जाता है। यह भी रसायन वटी के फायदे (rasayan vati benefits in hindi) में से एक फायदा है । 

10) अगर आप में एनर्जी और स्टैमिना की कमी है तब भी आपको रसायन वटी का उपयोग कर इसका लाभ लेना चाहिए। 

11) यह आयुर्वेदिक वटी पुरुषों में होने वाले प्रजनन सम्बन्धी दोषों जैसे शीघ्रपतन, पेनाइल इन्फेक्शन, और इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की समस्या को दूर करने में उपयोगी साबित होती है। 

12) इसका उपयोग पुरुषों की नपुंसकता नामक बीमारी को दूर करने के लिए किया जाता है।  

13) पुरुषों में होने वाली यौन कमज़ोरी को दूर करने के लिए रसायन वटी का उपयोग किया जाता है।

14) इसके नियमित उपयोग से शरीर के इम्युनिटी सिस्टम को मज़बूत किया जा सकता है। 

15) मूत्र संबंधी रोगों से छुटकारा दिलाने में भी रसायन वटी कारगर साबित होती है। 

16) इस वटी का उपयोग तनाव कम करने के लिए भी किया जाता है। 

17) रसायन वटी के फायदे (rasayan vati benefits in hindi) में इसके सेवन का एक लाभ भी यह भी होता है: शरीर में होने वाले दर्द से निजात दिलाना। 

18) इस वटी के सेवन से शारीरिक और मानसिक दुर्बलता दूर होती है और व्यक्ति बुद्धिमान एवं शक्तिशाली बनता है। 

19) इसमें आम पाचक गुण शामिल होने की वजह से यह वटी शरीर से विषाक्त पदार्थों को दूर करता है। 

20) यह वटी नसों की कमज़ोरी को दूर करने के साथ-साथ उसे ताकत प्रदान करती है।  

 

Download Paavan App

 

रसायन वटी कितने दिन में फायदा करती है (Rasayan Vati Is Beneficial in How Many Days)

रसायन वटी कितने दिन में फायदा करती है? आइये जानते हैं कितने दिनों में रसायन वटी के फायदे (rasayan vati benefits in hindi) देखने को मिलते हैं:

अगर आप रसायन वटी का उपयोग शुरू करते हैं तो इसे बिना किसी गैप के लगातार करते रहना चाहिए। इसका पूरी तरह से असर होने में लगभग 3 महीने या 90 दिन लगते हैं। इसलिए अगर आप पूरी तरह से रसायन वटी के फायदे (rasayan vati benefits in hindi) का लाभ लेना चाहते हैं तो कम से कम 3 महीने आपको इसका लगातार सेवन करना चाहिए। 

रसायन वटी के नुकसान (Side-effects of Rasayan Vati)

Rasayan Vati Benefits in Hindi - Side-effects of Rasayan Vati

हर एक चीज़ का फायदा और नुकसान दोनों होता है। किसी भी चीज़ का फायदा और नुकसान हर एक व्यक्ति में अलग-अलग हो सकता है। यह पूर्णतः परिस्थितियों और विभिन्न कारकों पर निर्भर करता है। आइये जानते हैं कि रसायन वटी के उपयोग के क्या-क्या नुकसान हो सकते हैं: 

यह जानना संतोषजनक होगा कि अभी तक रसायन वटी के प्रयोग के कुछ ख़ास साइड इफेक्ट्स या नुकसान नहीं देखे गए हैं। परन्तु कुछ ऐसी बातें हैं जिनका आपको इसके सेवन से पहले ध्यान रखना आवश्यक है:

1) अगर आप इसका अधिक मात्रा में सेवन कर लेते हैं तो इसके कुछ दुष्प्रभाव देखे जा सकते हैं। ये दुष्प्रभाव न के बराबर भी हो सकते हैं।

2) साथ ही अगर आप इस वटी का सेवन कर रहे हैं तो आपको नशीले पदार्थों जैसे शराब आदि का उपयोग करने से बचना चाहिए। 

3) खाली पेट इस दवा को लेने से चक्कर महसूस होना इसका एक आम दुष्प्रभाव है। 

4) 18 साल से कम उम्र के बच्चों को इसका सेवन करना नुकसानदायक हो सकता है।

5) यह आयुर्वेदिक औषधि मुख्यतः पुरुषों के लिए कारगर है। महिलाओं को इसका सेवन करने से बचना चाहिए क्योंकि यह उनके लिए नुकसानदेह साबित हो सकता है। 

6) इसके सेवन से पहले आपको इसमें मौजूद घटकों के बारे में अच्छी तरह से जानकारी ले लेनी चाहिए। अगर उनमे से किसी भी घटक से आपको एलर्जी है तो आपको रसायन वटी का उपयोग नहीं करना चाहिए। अगर आप फिर भी इसका सेवन करने के इच्छुक हैं तो आपको एक जानकार चिकित्सक का परामर्श अवश्य लेना चाहिए।  

दोस्तों ये था रसायन वटी के फायदे (rasayan vati benefits in hindi) पर हमारा यह महत्वपूर्ण लेख। हमने यहाँ इसके फायदे के साथ-साथ इस वटी की सम्पूर्ण जानकारी दी है । यह एक बहुत ही फायदेमंद औषधि है। रसायन वटी के फायदे (rasayan vati benefits in hindi) हर किसी पर इसके उपयोग के आधार पर अलग-अलग हो सकते हैं।

हम रसायन वटी के फायदे (rasayan vati benefits in hindi) लेख के माध्यम से पढ़ चुके हैं कि इस वटी के सेवन के क्या-क्या फायदे और नुकसान हो सकते हैं। साथ ही हमने इसके उपयोग के साथ-साथ इससे संबंधित अन्य जानकारियां भी साझा की हैं। आशा है हमारा यह लेख किसी न किसी प्रकार से आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होगा। इसी तरह से विविध महत्वपूर्ण जानकारियों के लिए हमारे इस ऑनलाइन प्लेटफार्म पर नियमित रूप से बने रहें। 

Frequently Asked Questions

Question 1: रसायन वटी के फायदे (rasayan vati benefits in hindi) क्या हैं ?

रसायन वटी के फायदे (rasayan vati benefits in hindi) में मुख्यतः पुरुषों की शारीरिक, मानसिक, और यौन संबंधी समस्याओं को दूर करना शामिल है । 

Question 2: शिलाजीत रसायन वटी कैसे खाएं ?

शिलाजीत रसायन वटी की 1 से 2 गोली दिन में दो बार दूध के साथ लेना अधिक फायदेमंद होता है।

Question 3: पतंजलि शिलाजीत रसायन वटी क्या है ?

रसायन वटी को पूरे भारत भर में अलग-अलग आयुर्वेदिक कॉम्पनियों द्वारा निर्मित किया जाता है । उसी तरह से पतंजलि शिलाजीत रसायन वटी भी पुरुषों में यौन संबंधी दोषों को दूर करने के उपयोग में आने वाली वटी है, जिसका निर्माण पतंजलि संस्थान द्वारा किया जाता है ।

Question 4: क्या रसायन वटी शाकाहारी है ? 

जी हाँ, रसायन वटी पूर्णतः शुद्ध और प्रामाणिक तत्वों से निर्मित एक 100% शाकाहारी आयुर्वेदिक औषधि है ।

 

स्वामी विवेकानंद जी द्वारा लिखित “राज योग” से सीखें अष्टांग 8 योग – अर्थ, नियम और लाभ

आयुर्वेद में ऋतुचर्या का महत्व – क्यूँ बदलें ऋतुओं के अनुसार भोजन?

ऐसे और जानकारी पाने के लिए हमारे समाचार पत्रिका को सब्सक्राइब करे

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें

Top Posts